असंगति अलंकार की परिभाषा और उदाहरण


असंगति का अर्थ होता है किसी से संगति का न होना। असंगति अलंकार अर्थालंकार के अंतर्गत आता है। इस लेख में आप असंगति अलंकार की परिभाषा तथा उदाहरण के बारे में बताने जा रहे हैं।

असंगति अलंकार की परिभाषा

जहाँ पर जो कारण होता है कार्य भी वही होता है, यदि हाथ मे चोट लगती है तो दर्द भी हाथ मे ही होना चाहिए। परन्तु यदि कारण और कार्य समान नहीं होते है तो वहाँ पर असंगति अलंकार होता है। असंगति का अर्थ होता है किसी से भी संगति न होना।

असंगति अलंकार के उदाहरण

तुमने पैरों में लगाई मेंहदी

मेरी आँखों में समाई मेंहदी।

उपरोक्त दिए गए वाक्य में बताया गया है कि मेंहदी पैरो में लगाई गई परन्तु मेहदी को आंखों से देखकर उसका परिणाम निश्चित किया जा रहा है इसलिए यहाँ पर असंगति अलंकार होगा।

पिचका चलाइ और जुवती भिजाइ नेह,
लोचन नचाइ मेरे अंगहि नचाइ गौ।।

इस आर्टिकल में आपको असंगति अलंकार के बारे में उदाहरण सहित समस्त जानकारी दी है यदि आपको इस लेख में दी गई जानकारी पसन्द आयी हो तो इसे आगे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Leave a Comment