डीमेट अकाउंट क्या है और Demat Account कैसे खुलवाएं हिंदी में


Demat Account In Hindi: अगर आप भी निवेशक बनना चाहते हैं और शेयर बाजार में निवेश और ट्रेडिंग करके पैसे कमाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको जरुरत पड़ती है Demat Account की. क्योंकि बिना Demat Account के आप शेयर की लेन – देन और शेयर को Hold नहीं कर सकते हैं.

क्या आप जानते हैं Demat Account क्या है, डीमैट अकाउंट कैसे खुलवाएं, डीमैट अकाउंट कौन खुलवाता है, डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट में क्या अंतर है, डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान क्या हैं तो आप एक दम सही लेख पर आये हैं.

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको डीमैट अकाउंट के बारे में पूरी जानकरी देने वाले हैं जो कि आपको डीमैट अकाउंट खुलवाने से पहले पता होनी चाहिए. अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश करने के बारे में विचार कर रहें हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का यह लेख और जानते हैं Demat Account क्या होता है विस्तार से –

डीमैट अकाउंट क्या है (What is Demat Account in Hindi)

डीमैट अकाउंट एक ऐसा अकाउंट होता है जिसके द्वारा निवेशक शेयर को खरीद और बेच सकते हैं. जिस प्रकार से लोग पैसों की लेन – देन करने के लिए बैंक खातों का इस्तेमाल करते हैं उसी प्रकार के शेयर की लेन – देन के लिए डीमैट अकाउंट का इस्तेमाल किया जाता है.

जिस प्रकार से बैंक में पैसे की लेन – देन के लिए आपको एक बैंक अकाउंट की जरुरत होती है उसी प्रकार से शेयर की लेन – देन के लिए आपको एक Demat अकाउंट की जरूरत होती है. बिना Demat Account के आप शेयर को खरीद और बेच नहीं सकते हैं.

Demat Account में हमारे शेयर Digital Form में रहते हैं जिससे कि ये सुरक्षित रहते हैं. Demat का पूरा नाम Dematerialized होता है. जिसका अर्थ है जिसको छु नहीं सकते. Demat Account के द्वारा जब आप शेयर को बेचते हैं तो 1 या 2 दिन के बाद शेयर का पैसा आपके बैंक अकाउंट में आता है.

डीमैट अकाउंट में आप विभिन्न वित्तीय प्रतिभूतियों को Hold कर सकते है जैसे शेयर, स्टॉक, प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव, डिजिटल गोल्ड, बॉन्ड, गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर, सरकारी प्रतिभूतियां, एक्सचेंज ट्रेडेड फंड, म्यूचुअल फंड और इंट्राडे इत्यादि कर सकते है.

सीधे शब्दों में कहें तो Demat Account एक ऐसा अकाउंट होता है जिसके माध्यम से हम शेयर या वित्तीय प्रतिभूतियों को Hold कर सकते हैं और उनकी Buy – Selling कर सकते हैं.

डीमैट अकाउंट की शुरुवात

भारत में 1996 में Depository Act के बाद Demat Account की शुरुवात हुई थी. Demat Account से पहले लोग जब शेयर खरीदते थे तो उन्हें कंपनी के द्वारा एक Certificate दिया जाता था जिसे कि शेयर सर्टिफिकेट कहते थे.

यह शेयर सर्टिफिकेट इस बाद का Proof होता था कि वे शेयर के मालिक हैं. इसमें प्रत्येक शेयर का एक सर्टिफिकेट होता था. जैसे कि आपके पास 100 शेयर हैं तो 100 सर्टिफिकेट भी होंगे.

पर इनमें एक समस्या यह भी थी कि Manual Work होने के कारण इनमें गलतियाँ होने की संभावना भी अधिक होती थी और खोने तथा चोरी होने का भी डर रहता था. इसके अलावा शेयर ट्रान्सफर होने में भी दिन का समय लग जाता था. 

इसी समस्या के समाधान के लिए जरुरत पड़ी Demat Account की. Demat Account में आपके शेयर Virtual  Form में होते हैं जिससे कि आपको शेयर खोने – चोरी होने का डर बिलकुल नहीं रहता है. जब आप शेयर को खरीदते या बेचते हैं तो इसे आपके Demat Account में आने में 2 दिन का समय लगता है.

अभी तक आप लोग समझ गए होंगे कि Demat Account क्या है अब आगे जानते हैं कि कैसे आप Demat Account खुलवा सकते हैं.

हमने पिछले लेख में भारत के Best Mobile Trading Apps की सूची साझा की थी जो आपकी एक सही इन्वेस्टमेंट एप्लीकेशन की तलाश को ख़त्म करेगी.

डीमेट अकाउंट खोलने वाले एप्प की सूची 

डीमेट अकाउंट ओपनिंग एप्प  डाउनलोड लिंक
Upstox App (अपस्टॉक्स ट्रेडिंग एप्प) Upstox App Download
Groww App (ग्रो इन्वेस्टमेंट एप्प) Groww App Download
Angel One By Angel Broking (एंजेल ब्रोकिंग) Angel Broking App Download
Zerodha Trading App (ज़ेरोधा किट ट्रेडिंग एप्प) Zerodha Download
IIFL Markets App (आईआईएफएल मार्केट्स) IIFL Markets App Download
5Paisa App (5पैसा शेयर बाजार एप्प) 5Paisa App Download
Demat Account App List In Hindi

डीमैट अकाउंट कैसे खुलवाएं (How to open Demat Account in Hindi)

डीमैट अकाउंट जब हम खुलवाते हैं तो डीमैट अकाउंट अकेले नहीं खुलता है इसके साथ हमें ट्रेडिंग अकाउंट भी खुलवाना होता है. ट्रेडिंग अकाउंट और डीमैट अकाउंट दोनों को हम ब्रोकर से खुलवाते हैं पर जो डीमैट अकाउंट होता है वह Depository के साथ होता है.

Depository एक Government body होती है जहाँ पर हमारे शेयर रखें जाते हैं और शेयर के मालिकाना अधिकार का रिकॉर्ड रखा जाता है. भारत में मुख्य रूप से दो Depository हैं CDSL और NSDL. इन Depository के पास हमारे शेयर डिजिटल फॉर्म में होते हैं.

Demat Account खुलवाने के आपके पास बहुत सारे विकल्प है – इसमें मुख्य हैं Full Service Broker, Discount Service Broker और बैंक.

अगर आप Full Service Broker के साथ Demat अकाउंट खुलवाते हैं तो ये आपको Platform के साथ शेयर मार्किट से जुड़े Tips भी देते हैं. अपनी Service के कारण ये ब्रोकर ज्यादा Charge भी करते हैं.

भारत में IIFL, Motilal Oswal, Sharekhan आदि Full Service Broker हैं.

Discount Service Broker आपको Platform तो प्रदान करते हैं लेकिन वे आपको किसी भी प्रकार की कोई टिप्स नहीं देते हैं. कम सर्विस के कारण ये कम Charge करते हैं. भारत में Upstox App, Zerodha App आदि Discount Service Broker हैं .

आप बैंक से भी Demat Account खुलवा सकते हैं. भारत में SBI, ICICI जैसे बैंक Demat Account खुलवाने की सुविधा प्रदान करवाते हैं.

अगर आपको Demat Account खुलवाने के साथ शेयर बाजार में निवेश करने की Tips चाहिए तो आप Full Service Broker से Demat Account खुलवा सकते हैं. और अगर आप कम पैसों में Demat Account खुलवाना चाहते हैं तो Discount Service Broker से अपना Demat Account खुलवा सकते हैं.

Demat Account खोलने के लिए निम्न Step फॉलो करें

  • डीमेट अकाउंट खोले के लिए सबसे पहले Upstox App को डाउनलोड करें
  • अपस्टोक्स पर अकाउंट क्रिएट करे
  • अपना Email और मोबाइल नंबर दर्ज करें
  • Email ID का सत्यापन करें
  • अपना पैन कार्ड नंबर दर्ज करें
  • अपनी पर्सनल जानकारी भरें
  • अपने पते की पुष्टि करें
  • Upstox में अपना डिजिटल सिग्नेचर करें
  • अब अपनी सेल्फी अपलोड करें
  • अपनी बैंक डिटेल भरें
  • अपस्टोक्स पर Demat Account ओपनिंग शुल्क का भुगतान करें
  • बधाई हो इस प्रकार आपका Demat अकाउंट open हो जायेगा.

यदि आपको Demat अकाउंट खोलने परेशानी हो रही है तो इस लेख को जरुर पढ़ें – Upstox App क्या है इसमें Demat अकाउंट कैसे खोलें.

Demat Account और Trading Account में अन्तर

बहुत सारे निवेशकों को पता नहीं होता है कि Demat Account और Trading Account में अन्तर क्या है. लेकिन अगर आप निवेशक बनना चाहते हैं तो आपके इनके बीच अंतर पता होना जरुरी है.

  1. Demat Account में हम केवल अपने शेयर को Hold कर सकते हैं और Trading Account के द्वारा हम शेयर को खरीद और बेच सकते हैं.
  2. Trading Account मैनेज ब्रोकर के द्वारा होता है जबकि Demat Account को मैनेज Depository करती है.
  3. एक Demat Account में आप कितने भी ट्रेडिंग अकाउंट खुलवा सकते हैं.
  4. Intraday Trading आप केवल Trading Account से भी कर सकते हैं क्योंकि इसमें आपको शेयर Hold नहीं करने होते हैं इसलिए Demat Account के बिना भी Intraday Trading की जा सकती है.
  5. जब भी आप Demat Account या ट्रेडिंग अकाउंट खुवाते हैं तो ऐसा कोई separate नहीं होता है कि आपका Demat Account कौन सा है और आपका Trading Account कौन सा है. इसका Login ID और पासवर्ड Same होता है पर जैसा कि हमने ऊपर बताया Demat Account के अन्दर आप केवल शेयर को Hold कर सकते हैं और Trading Account से आप शेयर को खरीद और बेच सकते हैं.

डीमैट अकाउंट कौन खुलवा सकता है

18 वर्ष से ऊपर का कोई भी व्यक्ति जिसके पास PAN Card है वह Demat Account खुलवा सकता है. अगर आप एक स्टूडेंट हो और आप Demat Account खुलवाने के Eligibility Criteria को पूरा करते हो तो आप भी अपना Demat Account खुलवा सकते हो और ट्रेडिंग कर सकते हो.

डीमैट अकाउंट खुलवाने में कितने पैसे लगते हैं

Demat Account को आप 300 से 600 रूपये में बहुत ही आसानी से खुलवा सकते हो. और स्टॉक्स में निवेश करना शुरू कर सकते हो. Groww जैसे प्लेटफार्म पर आप डीमेट अकाउंट फ्री में भी खुलवा सकते हो. वैसे तो Demat Account को आप बहुत कम पैसों में खोल सकते हो पर Demat Account को चलाने के लिए DP आप से अनेक प्रकार की फीस लेती है.

जैसे Account Opening Fees, अकाउंट को मैनेज करने के लिए Annual Management Fess, दो Demat Account के बीच शेयर के आदान – प्रदान करने के लिए Transaction Fees आदि.

डीमैट अकाउंट कौन खुलवाता है

भारत में Demat अकाउंट खोलने का कार्य दो संस्थाएं NSDL (National Securities Depository Limited) और CDSL (Central Securities depository limited) करती हैं.

इन Depository के बहुत सारे एजेंट होते हैं जिनको depository participants (निक्षेपागार सहभागी) कहते हैं. आम बोलचाल में इनको DP कहते हैं. DP का कार्य डीमैट अकाउंट खुलवाने का होता है.

भारत में कई सारे बैंक डीमैट अकाउंट खुलवाने की सुविधा प्रदान करते हैं जैसे SBI, ICICI, PNB, SBI आदि, आप इन बैंकों में जाकर आसानी से डीमैट अकाउंट खुलवा सकते हैं.

बैंकों के अलावा कई सारी संस्थाएं भी डीमैट अकाउंट खुलवाने की सुविधा गाहकों को प्रदान करवाती है जैसे कि – IIFL, Motilal Oswal, Sharekhan आदि. आप इन संस्थाओं के दफ्तर में जाकर भी डीमैट अकाउंट खुलवा सकते हैं.

इनके अलावा आप मोबाइल एप्लीकेशन के द्वारा Discount में डीमैट अकाउंट खुलवा सकते हैं जैसे Upstox, Zerodha, Groww आदि, ये सभी Discount ब्रोकर हैं. इन ट्रेडिंग एप्लीकेशन को डाउनलोड करके आप आसनी से अपना Demat Account Open कर सकते हैं.

पर इस बात का ध्यान रखें कि Demat Account खुलवाने के लिए आपको उम्र 18 साल से अधिक होनी चाहिए और आपके पास PAN Card होना भी जरुरी है.

डीमैट अकाउंट से पैसे कैसे कमाए  

आप डीमैट अकाउंट खोलने के साथ अपना ट्रेडिंग अकाउंट भी खुलवाएं. इसके बाद अच्छे शेयर को ख़रीदे और उन्हें अपने डीमैट अकाउंट में Hold करके रखें. जब आपके द्वारा ख़रीदे हाय शेयर के दाम बढ़ जाते हैं तो आप इन्हें बेचकर अच्छे पैसे कमा सकते हैं.

शेयर मार्किट में कितना पैसा है ये तो आप लोग जानते ही होंगे, जब आप एक बार इसे अच्छे से समझ जायेंगे तो आप भी शेयर बाजार से करोड़ों रूपये भी आसानी से कमा सकते हैं.

डीमैट अकाउंट के फायदे (Advantage of Demat Account in Hindi)

डीमैट अकाउंट के फायदे निम्न प्रकार से हैं –

#1 – सुरक्षा (Security)

Demat Account में आपके शेयर Digital Form में होते हैं जिससे कि आपके शेयर के चोरी होने और खोने की संभावना ख़त्म हो जाती है. भौतिक में शेयर होने पर खोने और चोरी होने का डर रहता है. इसलिए कहा जा सकता है कि Demat Account में आपके शेयर सुरक्षित रहते हैं.

#2 –  समय की बचत (Time Saving)

आपने भी सुना होगा ‘समय पैसा है’. पहले जब शेयर का लेन – देन के लिए कागजी कारवाही में तक़रीबन 14 दिनों का समय लगता था. पर डीमैट अकाउंट के साथ मात्र 2 दिनों के अन्दर सारी कारवाही हो जाती है.

#3 – गलतियों में कमी (Reduction of Mistakes)

भौतिक और ऑफलाइन दुनिया में manual काम के कारण बहुत सारी गलतियाँ हो जाती है. डीमैट अकाउंट के सबसे बड़े लाभों में से एक यह है कि इन गलत ट्रेडों में काफी कमी आई है.

#4 – आसानी से शेयर ट्रान्सफर (Share Transfer Easily)

डीमैट अकाउंट के द्वारा आप बहुत ही आसानी और सरलता के साथ शेयर का ट्रान्सफर कर सकते हैं. डीमैट अकाउंट के द्वारा आप केवल 1 शेयर को भी ट्रान्सफर कर सकते हो.

डीमैट अकाउंट के नुकसान (Disadvantage of Demat Account in Hindi)

एक ओर जहाँ डीमैट अकाउंट के बहुत सारे फायदे हैं वहीँ दूसरी ओर इसके कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि –

  • कई सारे ब्रोकर भरोसेमंद नहीं होते हैं वे आपके खाते का गलत उपयोग कर सकते हैं.
  • डीमैट खाते के मुख्य नुकसानों में से एक डीमैट अकाउंट खोलने और संचालित करने से सम्बंधित खर्चे हैं. डीमैट अकाउंट को खोलने में खाता खोलने का शुल्क, लेनदेन शुल्क, संरक्षक शुल्क और Annual Maintenance Charges शामिल हैं.

इन्हें भी पढ़ें 

डीमैट अकाउंट से सम्बंधित कुछ सामान्य प्रश्न

डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या है?

डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए आपके पास PAN कार्ड का होना जरुरी है.

एक साथ कितने डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं?

क़ानूनन आपके 2 डीमैट अकाउंट हो सकते हैं , हालांकि, वे एक ही DP या ब्रोकर के साथ नहीं होना चाहिए.

डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट में क्या अंतर हैं?

डीमैट अकाउंट में आप केवल शेयर को Hold कर सकते हैं, लेकिन अगर आप ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको जरूरत पड़ेगी ट्रेडिंग अकाउंट की.

आपने सीखा: डीमेट अकाउंट क्या है हिंदी में

इस लेख को पढने के बाद आपको समझ में आ गया होगा कि Demat Account Kya Hai In Hindi और यह जरुरी क्यों होता है. अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं तो जरुर अपना Demat Account खुलवाये और निवेश करना शुरू करें.

उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख पसंद आया होगा और Demat Account से जुड़े आपके सारे Confusion दूर हुए होंगे. इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें.

Leave a Comment