म्यूच्यूअल फण्ड में एसटीपी क्या है (STP और SIP में अंतर) STP In Hindi


STP Kya Hai In Hindi: जो भी व्यक्ति स्टॉक मार्केट म्यूच्यूअल फंड में जरा भी दिलचस्पी रखता है उसे SIP के बारे में जरुर पता रहता है, SIP म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका माना जाता है. SIP में आपको हर महीने एक निश्चित राशि एक सवय अवधि के लिए म्यूच्यूअल फंड में निवेश करनी होती है.

लेकिन कई बार ऐसा होता है कि आप एक म्यूच्यूअल फंड स्कीम से दुसरे म्यूच्यूअल फंड स्कीम में अपना पैसा ट्रान्सफर करना चाहते हैं जैसे आप Debt fund से Equity में अपना पैसा ट्रान्सफर करना चाहते हैं तो म्यूच्यूअल फंड में STP के द्वारा यह संभव हो पाता है.

अधिकतर लोग जो म्यूच्यूअल फंड में निवेश करते हैं उनमें से बहुत कम को ही STP के बारे में मालूम होता है, इसलिए हमने सोचा क्यों ना आज आपको STP के बारे में कम्पलीट इनफार्मेशन प्रदान कराई जाये, क्योंकि म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने वाले हर एक निवेशक को STP के विषय में पता होना चाहिए.

इस आर्टिकल में आपको जानने को मिलेगा कि STP क्या होता है, STP कितने प्रकार का होता है, STP काम कैसे करता है, STP के फायदे तथा नुकसान क्या हैं और STP तथा SIP में क्या अंतर है?. तो बने रहिये आप हमारे साथ इस लेख के अंत तक और जानिये STP क्या है पूरी जानकारी हिंदी में.

एसटीपी का मतलब (STP Full Form in Hindi)

STP का फुल फॉर्म Systematic Transfer Plan होता है जिसका हिंदी मतलब व्यवस्थित स्थानांतरण योजना है. यह म्यूच्यूअल फंड में एक ऐसी योजना है जिसके द्वारा आप एक म्यूच्यूअल फंड स्कीम से दुसरे म्यूच्यूअल फंड स्कीम में आसानी से पैसा ट्रान्सफर कर सकते हैं.

  • STP Full Form in English – Systematic Transfer Plan
  • एसटीपी का पूरा नाम – व्यवस्थित स्थानांतरण योजना

एसटीपी क्या है (What is STP in Hindi)

STP (Systematic Transfer Plan) म्यूच्यूअल फंड के अन्दर एक ऐसा प्लान है जो निवेशक को अनुमति देता है कि वह अपने म्यूच्यूअल फंड स्कीम को उसी म्यूच्यूअल फंड हाउस में दुसरे म्यूच्यूअल फंड स्कीम में ट्रान्सफर कर सके.

STP के द्वारा आपकी निवेश की गयी राशि हर महीने नियमित रूप से आपके पसंदीदा स्कीम में ट्रान्सफर की जा सकती है. आमतौर पर STP के द्वारा Liquid और Debt फंड को Equity में ट्रान्सफर किया जाता है. STP के जरिये आप अपने पैसों को कई स्कीम में बाँट सकते हैं. न्यूनतम STP की राशि कितनी होगी यह उस फंड स्कीम और फंड पर निर्भर करती है

एसटीपी काम कैसे करता है (How Does STP Work)

STP को अच्छे से समझने के लिए यह समझना जरुरी है कि STP काम कैसे करता है? चलिए इसे एक उदाहरण से समझते हैं.

माना आपके पास मौजूदा समय में आपकी राशि 5 लाख रूपये है, जिसे आप STP के द्वारा equity में निवेश करना चाहते हैं तो इसके लिए पहले आपको एक Debt या Liquid स्कीम को find करना होगा और फिर पूरे 5 लाख रूपये उस स्कीम में डालने होंगें.

जब आप अपने पैसों को Liquid या Debt में फंड में डालते हैं तो उसी समय आपको यह तय कर लेना होगा कि आप हर महीने कितने पैसे STP के जरिये Equity में ट्रान्सफर करेंगें. आपको बता दें ट्रान्सफर दैनिक, साप्ताहिक, मासिक या त्रैमासिक आधार पर हो सकता है. माना आप 10 हजार रूपये हर महीने Equity में ट्रान्सफर करना चाहते हैं तो पूरे 5 लाख रूपये ट्रान्सफर होने में 50 महीनों का समय लगेगा.

इस प्रकार से आपके पैसे Systematic तरीके से रक म्यूच्यूअल फंड स्कीम से दुसरे म्यूच्यूअल फंड स्कीम में ट्रान्सफर हो जाते हैं.

एसटीपी कितने प्रकार के होते हैं (Types of STP In Hindi)

STP तीन प्रकार का होता है – Fixed, Capital Growth और Flexi STP, चलिए अब इन तीनों को एक – एक करके समझते हैं.

#1 – Fixed STP (फिक्स्ड एसटीपी)

फिक्स्ड STP में निवेशक एक फंड से दुसरे फंड में निश्चित राशि ट्रान्सफर कर सकता है.

#2 – Capital Growth (पूंजी वृधि)

Capital Growth STP में निवेशक एक फंड से केवल लाभों को दुसरे फंड में ट्रान्सफर कर सकता है.

#3 – Flexi STP (फ्लेक्सी एसटीपी)

फिक्स्ड STP के विपरीत फ्लेक्सी STP में निवेशक के पास परिवर्तनीय राशि सेलेक्ट करने का विकल्प होता है.

एसटीपी के फायदे (Advantage of STP)

STP के अनेक सारे फायदे निवेशक को मिलते हैं जैसे कि –

  • STP में आप थोडा – थोडा करके Systematic तरीके से अपने पैसे एक म्यूच्यूअल फंड स्कीम से दुसरे म्यूच्यूअल फंड स्कीम में ट्रान्सफर करते हैं, इसलिए इसमें अच्छे return मिलने कीई संभावना होती है.
  • STP के जरिये जब आप थोडा – थोडा पैसा equity में डालते हैं तो जोखिम कम हो जाता है.
  • STP के जरिये निवेशक म्यूच्यूअल फंड में समय – समय पर एक म्यूच्यूअल फंड स्कीम से दुसरे म्यूच्यूअल फंड स्कीम में अपना फंड ट्रान्सफर कर सकते हैं.
  • STP निवेशकों को सुविधा देता है कि वह अपने पसंद की स्कीम में अपना निवेश ट्रान्सफर कर सकें.
  • STP में जोखिम की संभावना बहुत कम है.

एसटीपी के नुकसान (Disadvantage of STP In Hindi)

STP के फायदों के साथ कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि –    

  • SIP की तरह ही STP में return की कोई गांरटी नहीं होती है.
  • अगर आप गलत म्यूच्यूअल फंड स्कीम में अपना फंड ट्रान्सफर करते हैं तो इसमें आपके पैसे डूब भी सकते हैं.

STP और SIP में अंतर क्या है? 

STP और SIP दोनों एक दुसरे से बहुत अलग हैं, नीचे हमने टेबल के द्वारा आपको इन दोनों के बीच अंतर को स्पष्ट रूप से समझाया है.

 एसटीपी (STP) एसआईपी (SIP)
STP का फुल फॉर्म Systematic Transfer Plan होता है. SIP का फुल फॉर्म Systematic Investment Plan होता है.
STP एक ऐसी योजना है जिसमें आप एक म्यूच्यूअल फंड स्कीम से दुसरे म्यूच्यूअल फंड स्कीम में अपना पैसा ट्रान्सफर करते हैं. SIP में आप अपने बैंक अकाउंट से म्यूच्यूअल फंड में पैसा निवेश करते हैं.
STP एक फंड ट्रान्सफर योजना है. SIP एक निवेश योजना है.
STP में निवेश की न्यूनतम राशि कोई निश्चित नहीं है. SIP में निवेश करने की न्यूनतम राशि 500 रूपये है.
Difference between STP and SIP In Hindi

FAQs: STP In Hindi

एसटीपी का फुल फॉर्म क्या है?

STP का फुल फॉर्म Systematic Transfer Plan होता है.

एसटीपी क्या होता है?

म्यूच्यूअल फंड में एक म्यूच्यूअल फंड स्कीम से उसी फंड हाउस के दुसरे स्कीम में पैसे ट्रान्सफर करने को STP कहा जाता है.

एसटीपी करने की न्यूनतम राशि क्या है?

STP की कोई फिक्स न्यूनतम राशि नहीं होती हैं यह आपके फंड और फंड स्कीम पर निर्भर करती है.

इन्हें भी पढ़े

निष्कर्ष – एसटीपी क्या है हिंदी में

तो यह थी म्यूच्यूअल फंड में STP की कम्पलीट इनफार्मेशन, हमने कोशिस की है कि इस आर्टिकल में आपको STP Kya Hai के बारे में अच्छे से समझा सकें.

म्यूच्यूअल फंड में STP बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि अगर आप Equity में एक साथ निवेश कर देते हैं तो इसमें जोखिम अधिक होता है जबकि STP के जरिये आप Equity में Systematic तरीके से निवेश करते हैं, इस प्रकार म्यूच्यूअल फंड में STP के जरिये आप अपने जोखिम को कम कर सकते हैं.

उम्मीद करते हैं दोस्तों आपको यह लेख पसंद आया होगा, यदि अभी भी आपके मन में इस लेख से जुड़े कोई प्रश्न हैं तो बेझिझक हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं हम जल्दी ही आपके सवालों का जवाब देंगें. इस लेख को अपने उन दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें जिन्हें निवेश में रूचि हैं और शेयर बाजार, म्यूच्यूअल फंड जैसे विषयों पर बेहतरीन लेख पढने के लिए हमारे ब्लॉग को विजिट करें.

Leave a Comment