100+ Surdas Jayanti Wishes in Hindi | सूरदास जयंती की शुभकामनाएं संदेश


Surdas Jayanti Wishes in Hindi: आज के इस लेख में आपके लिए सूरदास जयंती की शुभकामनाएं संदेश लेके आए है। इस तरह की सूरदास जयंती की शुभकामनाएं संदेश आपको मिलना मुश्किल है। आप यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते हैं।

Surdas Jayanti Wishes in Hindi

कृष्ण भक्त भक्ति और वात्सल्य रस के कवि संत सूरदास जयंती की,
आप सभी को शुभकामनाएं। हरि की महिमा का गान कर आइए उन्हें नमन करें।
HAPPY Surdas Jayanti.

मथुरा-आगरा के बीच रुनकता गांव में हुआ था,
संत सूरदास का जन्म,
उनको गुरु वल्लभाचार्य से मिली थी पुष्टिमार्ग की दीक्षा।
HAPPY Surdas Jayanti.

एक व्यक्ति ने अपना सारा जीवन भगवान कृष्ण के लिए गाते हुए,
भगवान कृष्ण की स्तुति करने और भगवान कृष्ण के लिए,
सुंदर कविताओं का निर्माण करने में लगा दिया,
ऐसे महान व्यक्ति को मत भूलना। सूरदास जयंती की शुभकामनाएं।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास जयंती के इस पावन अवसर पर ब्रज जोश और उत्साह से भर जाता है,
और हर साल जोश और उत्साह के साथ मनाया जाता है।
HAPPY Surdas Jayanti.

श्री कृष्ण के अनन्य भक्त, कृष्ण प्रेम और माधुर्य की प्रतिमूर्ति,
हिन्दी साहित्य के सूर्य, महाकवि,
संत शिरोमणि श्री सूरदास जी की जयंती पर उन्हें कोटि-कोटि नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

आंखों के सामने भगवान हमारे पास नहीं आएंगे,
लेकिन जब आपकी भक्ति सच्ची होगी,
तो आप अपने चारों ओर भगवान को महसूस करेंगे,
सूरदास जयंती की शुभकामनाएं।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास जी बचपन से ही अपने परिवार से विमुख हो गए थे,
ताकि वह उन पर बोझ न बन सकें,
सूरदास जी की वाणी में मधुरता थी,
जब वे भाव-विभोर होकर कृष्ण लीला का वर्णन करते हुए पद-गायन करते थे,
तब समस्त ग्रामवासी भी हर्ष से झूम उठते तथा मंत्रमुग्ध हो उनका गायन सुनते थे।
HAPPY Surdas Jayanti.

अगर हम भगवान से प्यार कर रहे हैं,
तो हम दुनिया की अच्छाई से प्यार कर सकते हैं- कवि संत सूरदास।
HAPPY Surdas Jayanti.

हिंदी साहित्य के महाकवि सूरदास जी की जयंती पर,
आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं व उन्हें कोटि-कोटि नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास हमें सिखाते हैं कि जब भक्ति हृदय से होती है,
तो हमें आँखें नहीं चाहिए,
बस एक प्रकार का हृदय पर्याप्त है,
हैप्पी सूरदास जयंती।
HAPPY Surdas Jayanti.

भारतीय हिंदी साहित्य के भक्तिकाल में अपनी कृष्ण भक्ति,
और वात्सल्य रस से अमिट छाप छोड़ने वाले महान कवि संत,
सूरदास जी की जयंती पर अनंत शुभकामनाएं।
HAPPY Surdas Jayanti.

तुलसीदास जी और सूरदास जी समक्ष थे,
ओर तुलसीदास जी को भगवान राम का भक्ति कवि माना जाता था,
और सूरदास जी को कृष्ण भक्त कवि माना जाता था,
सूरदास जी के लेखन में भक्ति की लहर नजर आती थी।
HAPPY Surdas Jayanti.

भगवान् श्रीकृष्ण के महानतम भक्तों में से एक,
महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें शत्- शत् नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

कृष्ण भक्त भक्ति और वात्सल्य रस के,
कवि संत सूरदास जयंती की आप सभी को शुभकामनाएँ।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास जी की काव्य भाषा में काफी भाषाओ का प्रयोग मिलता है,
उन्होंने कई भाषाओ में लेखन का कार्य किया,
जिसमे प्रमुख रूप से अनुप्रास, यमक, श्लेष, उपमा,
उत्प्रेक्षा तथा रूपक अलंकारो का प्रयोग अधिक मिलता है।
HAPPY Surdas Jayanti.

वात्सल्य रस सम्राट, भगवान् श्रीकृष्ण के महानतम भक्तों में से एक,
महाकवि संत सूरदास जी की जयंती पर शत्- शत् नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

खीझत जात माखन खात, अरुन लोचन भौंह टेढ़ी बार बार जंभात,
कबहुं रुनझुन चलत घुटुरुनि धूरि धूसर गात,
कबहुं झुकि कै अलक खैंच नैन जल भरि जात,
कबहुं तोतर बोल बोलत कबहुं बोलत तात,
सूर हरि की निरखि सोभा निमिष तजत न मात,
सूरदास जी की जयंती पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।
HAPPY Surdas Jayanti.

मैया मोहि मैं नहि माखन खायौ,
भोर भयो गैयन के पाछे, मधुबन मोहि पठायो,
संत महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें विनम्र नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

जो तुम सुनहु जसोदा गोरी,
नंदनंदन मेरे मंदिर में आजु करन गए चोरी।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास जी की काव्य भाषा में काफी भाषाओ का प्रयोग मिलता है,
उन्होंने कई भाषाओ में लेखन का कार्य किया,
जिसमे प्रमुख रूप से अनुप्रास, यमक, श्लेष, उपमा,
उत्प्रेक्षा तथा रूपक अलंकारो का प्रयोग अधिक मिलता है।
HAPPY Surdas Jayanti.

हरि की महिमा गान करने वाले संत महाकवि सूरदास जी की जयंती पर,
उन्हें विनम्र नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

जसोदा हरि पालनैं झुलावै,
हलरावै दुलरावै मल्हावै जोइ सोइ कछु गावै,
महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें शत्-शत् नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

रे मन कृष्ण नाम कहि लीजै गुरु के बचन अटल करि मानहिं,
साधु समागम कीजै कृष्ण नाम रस बह्यो जात है,
तृषावंत है पीजै सूरदास हरिसरन ताकिए, जन्म सफल करी लीजै।
HAPPY Surdas Jayanti.

अगर प्यार सच्चा है, तो आप उनके लिए अपना पूरा जीवन खुशी से बिता सकते हैं,
महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें शत्-शत् नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

चरण कमल बंदो हरी राइ,
जाकी कृपा पंगु गिरी लांघें अँधे को सब कुछ दरसाई,
बहिरो सुनै मूक पुनि बोले रंक चले सर छत्र धराई,
सूरदास स्वामी करुणामय बार- बार बंदौ तेहि पाई,
संत महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें विनम्र नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

लोग उनके द्वारा लिखित पांडुलिपियों का जाप करते हैं,
और महान संत को याद करने के लिए,
इस दिन भजन और कीर्तन भी आयोजित किए जाते हैं।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास भक्ति के प्रति महान थे,
उन्होंने न केवल भगवान कृष्ण की प्रशंसा की,
बल्कि भक्ति का प्रसार किया,
हमें इसके लिए उन्हें नमन करना।
HAPPY Surdas Jayanti.

कहन लागे मोहन मैया मैया,
नंद महर सों बाबा बाबा अरु हलधर सों भैया,
ऊंच चढि़ चढि़ कहति जशोदा लै लै नाम कन्हैया,
दूरि खेलन जनि जाहु लाला रे,
मारैगी काहू की गैया,
गोपी ग्वाल करत कौतूहल घर घर बजति बधैया,
सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस कों चरननि की बलि जैया।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास जी सहित्य काव्यात्मक भाषा ब्रज भाषा है,
जिसमे उन्होंने अपने लेखो को प्रस्तुत किया था,
खासकर सूरदास जी मुहावरों में ब्रज का सबसे अधिक इस्तेमाल करते थे,
ब्रज के साथ साथ सूरदास जी की काव्यभाषा के पदों में,
लक्षणा और व्यजना शब्द का मिश्रण भी मिलता है।
HAPPY Surdas Jayanti.

सोभित कर नवनीत लिए,
घटरुनि चलत रेनु तन मंडित दधि मुख लेप किये।
HAPPY Surdas Jayanti.

आजु हरि धेनु चराए आवत। मोर मुकुट बनमाल बिराज पीतांबर फहरावत,
जिहिं जिहिं भांति ग्वाल सब बोलत सुनि स्त्रवनन मन राखत,
आपुन टेर लेत ताही सुर हरषत पुनि पुनि भाषत,
देखत नंद जसोदा रोहिनि अरु देखत ब्रज लोग,
सूर स्याम गाइन संग आए मैया लीन्हे रोग,
महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें शत्-शत् नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास हिन्दी के भक्तिकाल के महान कवि थे,
हिन्दी साहित्य में भगवान श्रीकृष्ण के अनन्य उपासक,
और ब्रजभाषा के श्रेष्ठ कवि महात्मा सूरदास हिंदी साहित्य के सूर्य माने जाते हैं।
HAPPY Surdas Jayanti.

चरन कमल बंदौ हरि राई,
जाकी कृपा पंगु गिरि लंघै आंधर कों सब कछु दरसाई,
बहिरो सुनै मूक पुनि बोलै रंक चले सिर छत्र धराई,
सूरदास स्वामी करुनामय बार-बार बंदौं तेहि पाई।
HAPPY Surdas Jayanti.

सूरदास जी ने कृष्ण भगवान जी के बचपन से,
लेकर उनके आजीवन सभी भागो को पदों से व्यक्त किया,
उन्होंने कृष्ण जी के हर पद को बड़े मन से चित्रण किया,
जिस कारण ये पद वास्तविकता का आभास कराती है।
HAPPY Surdas Jayanti.

मैया मोरी, मैं नहिं माखन खायो,
ग्वाल बाल सब बैर परत हैं, बरबस मुख लपटायो,
री मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो।
HAPPY Surdas Jayanti.

जसोदा हरि पालनैं झुलावै, हलरावै दुलरावै मल्हावै जोइ सोइ कछु गावै,
मेरे लाल को आउ निंदरिया काहें न आनि सुवावै,
तू काहै नहिं बेगहिं आवै तोकौं कान्ह बुलावै कबहुं पलक हरि मूंदि लेत हैं,
कबहुं अधर फरकावैं। सोवत जानि मौन ह्वै,
कै रहि करि करि सैन बतावै इहि अंतर अकुलाइ उठे हरि जसुमति मधुरैं गावै,
जो सुख सूर अमर मुनि दुरलभ सो नंद भामिनि पावै,
संत महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें विनम्र नमन।
HAPPY Surdas Jayanti.

अबिगत गति कछु कहति न आवै,
ज्यों गुंगो मीठे फल की रस अन्तर्गत ही भावै,
परम स्वादु सबहीं जु निरन्तर अमित तोष उपजावै,
मन बानी कों अगम अगोचर सो जाने जो पावै,
रूप रैख गुन जाति जुगति बिनु निरालंब मन चक्रत धावै,
सब बिधि अगम बिचारहिं तातों सूर सगुन लीला पदगावै।
HAPPY Surdas Jayanti.

उम्मीद करते है की, आपको यह हमारा सूरदास जयंती की शुभकामनाएं संदेश आपको जरूर पसंद आया होगा। आप हमारा यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते है, और हमें कमेंट में बता सकते है आपको हमारा यह लेख कैसा लगा।

Leave a Comment