150+ Ignore Shayari In Hindi | इग्नोर शायरी » KindStatus.com


Ignore Shayari In Hindi: आज के इस लेख में आपके लिए इग्नोर शायरी लेके आए है। इस तरह की इग्नोर शायरी आपको मिलना मुश्किल है। आप यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते हैं।

Ignore Shayari In Hindi

नजर अंदाज ही करना चाहते हो तो,
हम हट जाते नजर से,
एक दिन इन्हीं नज़रों से ढूंढोगे जब हम,
नजर नहीं आएंगे।

उसका मुझे यु हर पल नजरअंदाज,
करना लाजमी हे,
उसके लिए खुद को नजरअंदाज करना भी,
मेने ही तो शुरू किया था।

सिर्फ प्यार ही तो माँगा था हमने,
आप का जीवन भर का साथ ही तो माँगा था हमने,
इग्नोर करने की भी हद होती है,
आपसे सिर्फ एक पल बात करने का समय ही तो माँगा था हमने।

कोई आपको जब भी इग्नोर करे तो,
बहोत ख़ामोशी के साथ उसकी,
लाइफ से दूर हो जाना।

कहने को तो हम उनके हैं,
पर सिर्फ शब्दों में।

हमने चरागों को नजरअंदाज किया,
अपनों की खुशी के लिए,
उसने हमें ही ठुकरा दिया,
गैरों की हँसी के लिए।

बहुत तकलीफ होती हैं जब कोई इग्नोर करता हैं,
सेल्फ रिस्पेक्ट के चक्कर में तो सभी कह देते है,
आई डोंट केयर।

जब सोच ही लिया है तो क्यों घबराना,
बढ़ चुके हो आगे तो क्यों डगमगाना,
हाँ मुश्किल तो होगा तेरे बिना आगे का सफर,
रोये तुम नहीं तो क्यों छोड़े हम मुस्कुराना।

किसी चेहरे को देख के,
प्यार करते है लोग आज कल,
जब भी प्यार का इज़हार करने जाऊ,
तो मुझे इग्नोर करते है लोग आज कल।

बहुत हंसी आती है मुझे उन लोगो पर,
जो मुझे मुझसे ज़्यादा जानते है।

आप किसी से बार बार ignore,
महसूस करे,
तो उस रिश्ते को ख़त्म करना,
ही बहेतर हे।

कभी उसे नजर अंदाज ना करो,
जो तुम्हारी बहुत परवाह करता हो,
वरना किसी दिन तुम्हें एहसास होगा,
के पत्थर जमा करते-करते तुमने हीरा गँवा दिया।

ऐसा नही था हमने देखा नही पहले भी उन्हें,
हमे यू धोखा देते पर दिल ने उसे अनदेखा कर कहा,
चल छोड़ एक और मौका दे।

इग्नोर तो कर रहे हो पर,
खोकर हमे पा न-सकोगे,
जहां हम है वहाँ आ न सकोगे,
हमे महसूस तो कर लोगे पर,
होंगे वहाँ जहां से वापस बुला ना सकोगे।

प्यार तो होता है,
किया नहीं जाता ऐसा लोग बोलते है,
लेकिन जब भी प्यार होता है,
तो लोग नज़र अंदाज़ कर देते है हमारे प्यार को।

वो आज करते है नजर अंदाज,
तो बुरा क्या मानू मैं,
टूटकर पागलो की तरह मोहब्बत भी तो,
सिर्फ मैंने की थी।

किसी के पास इगो है,
तो किसी के पास एटीट्यूड है,
हमारे पास एक दिल है,
वो भी बड़ा क्यूट है।

अच्छा है खुद पे मगरूर होक मायूस बैठे है,
ना जाने दिल में क्या क्या ले बैठे है,
हम तो खुश है बस इतनी सी बात पे,
वो हमारे सामने खामोश बैठे है।

आप चाहते हो कि आप को कोई नजर अंदाज न करें तो,
मेहनत करो और नाम कमाओं और निशिचत मजबूत सिद्धांतों पर चलो।

किसी को देखु जब प्यार की नज़र से,
तो वो कुछ गलत समझ बैठता है,
उसको सिर्फ मेरे प्यार में धोखा ही दीखता है,
और वो मुझे इग्नोर कर देता है।

मुझे मार जाता हे नजर अंदाज,
करना तेरा,
बाकी तेरी हर अदा पर प्यार,
बहोत आता हे।

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से लोग हैं नाराज़ किस लिये,
हमने कभी किसी को खफा तो नहीं किया।

बड़ी हसीन थी मेरी भी जिंदगी,
जबतक उसने प्यार का नाम लेकर,
मेरा दिल तोड़ा नहीं था।

इग्नोर शब्द से मुझे याद आया,
एक लड़की थी दीवानी सी,
जिसपे हम मरते थे,
अब वो किसी और पे मरती है,
मुझे इग्नोर करके।

सुनो तुम लाख छुपाओ मुझसे,
जो रिश्ता है तुम्हारा,
सयाने कहते हैं,
Ignore करना भी मुहब्बत है।

उनका लहजा भी बहुत सख्त है,
शायद ऐ नफरतों का ही वक्त है,
जिस दिल में दिल कि जगह नहीं,
ऐसा दिल भी तो एक बदबख्त है।

हद.से ज्यादा बढ चुका है,
आपका नजर अदाज करना,
ऐसा सितम ना करो की,
हम भूलने पर मजबूर हो जाए।

सरल शब्दों में कहें,
तो लड़कियों का नाराजगी जाहिर करने का,
एक तरीका सामने वाले को इग्नोर करना भी है,
बस तो लड़की इग्नोर कर रही है,
तो इसके पीछे उसकी नाराजगी हो सकती है।

तुमको अगर जाना ही था,
तो आयी ही क्यो थी,
प्यार का दिखावा क्यो की थी,
छोड़ना ही था तो ऐसे ही छोड़ देती,
ऐसे सबके सामने बेडज्जती क्यो की थी।

करलो जितना करना है सितम आज तुम,
कल से हम नजर नहीं आएंगे,
फिर देखता हूं किसको करते हो नजरअंदाज तुम।

हमारी मोहब्बत को तुम
युं नजर अंदाज ना करो,
हम तो वो इंसान है जो,
पत्थरों में भी जान डाल देते है,
तुम तो चीज ही क्या हो?

बहुत-बहुत, बहुत रोएगी जिस दिन मैं याद आऊंगा,
और बोलेगी एक पागल था,
जो पागल था सिर्फ मेरे लिए।

अहंकार में आकर किसी को कभी नजरअंदाज मत करना,
क्या पता कब वक्त उसके सामने तुम्हें घुटने टेकने पर मजबूर कर दे।

नजर अंदाज न कर दिल दिल,
लगाकर यु,
गुस्ताखी हो गई हो तो माफ़ कर।

हमें शायर समझ के,
यूं नजर अंदाज न करिये,
नजर हम फेर ले तो,
तेरी चाहतों का बाजार गिर जायेगा।

बड़ी हसीन थी मेरी भी जिंदगी,
जबतक उसने प्यार का नाम लेकर,
मेरा दिल तोड़ा नहीं था।

आज भी वो मुझे प्यार करता हे,
दिल ही दिल में,
गेरो के कहने पर वो मुझे नजरअंदाज,
करता हे।

कुछ लोगो की औकात नही होती हमसे बात,
करने की और हमे इग्नोर करके खुद को,
तीस मर खान,समझने लगते है।

अनदेखा करते हे हर बार जब आप मुझे,
तो मुझे आपके साथ बिताये हुए,
हर पल पर पछतावा होता हे।

कभी वो ख़ामोशी ख़ामोशी खेलती है,
कभी वो “ब्लॉक ब्लॉक” खेलती है,
कभी वो “इग्नोर इग्नोर” खेलती है,
मतलब जो भी दर्द है वो अकेले ही झेलती है।

नजरअंदाज न करना शायर,
समझकर हमे,
हम नजर फेर ले अगर तो बाजार,
चाहतो का गिर जाएगा।

जिन लोगो का इंतज़ार करते है,
वो इंतज़ार करवाते रहते है,
और जिन्हे नज़रों से हटाना चाहते है,
वो बार बार सामने आते रहते है।

कभी नज़रअंदाज़ मत करो उसको,
जो तुम्हारी बहुत परवाह करता हो,
वरना किसी दिन तुम्हे एहसास होगा,
कि पत्थर जमा करते करते,
तुमने हीरा गवां दिया।

यूं तो गरम बहुत है शहर मेरा,
मजाल है मगर किसी का दिल पिघले।

किसी ने हमें अपना समझा ही नहीं,
किसी ने हमसे प्यार किया ही नहीं,
बस देख के निकल जाते थे वो,
क्युकी हमसे उनको कभी प्यार हुआ ही नहीं।

बेरुखी और बेअंदाजी हे उनके दिल में,
हमारे लिए,
तो हम भी समज चुके हे ये तो,
नजरअंदाजि हे।

दिल तोड़कर हमारा तुमको राहत भी न मिलेगी,
मेरे जैसे तुमको चाहत भी न मिलेगी,
यूं इतनी बेरुखी ना दिखाइए हम पे,
अगर हम रूठे तो हमारी आहत भी न मिलेगी।

Ignoer करने की वजह लड़किया,
बताती नहीं,
इस लिए किसी को ये समज में,
आती नहीं।

सजकर जब मैं महफ़िल में आई,
तो हर कोई मुझपर गौर कर रहा था,
जिसके लिए मैं सजकर आई,
बस एक वही इग्नोर कर रहा था।

यह ज़िन्दगी भी बहुत कुछ सिखाती है,
किसी के आगे नहीं झुकना ये सिखाती है,
लेकिन अक्सर प्यार में हम उन्हें देखते ही,
झुक जाते है उनके प्यार के खातिर।

जब कोई नज़र में रख कर भी,
नज़र अंदाज करे,
तो समझिये की,
उसकी नज़र आप पर ही है।

आपको उनसे बात किये बिना,
नहीं रह सकते ये बात,
जब सामने वाले को पता चलती हे,
तो वो आपको और ज्यादा,
इग्नोर करने लग जाता हे।

चाय में चीनी और,
गलत लोगों की नजदीकी,
कम ही रहनी चाहिए।

इग्नोर करना सीखा दे ये वक्त मुझे भी,
मुझे भी किसी वक्त पर किसी को,
इग्नोर करना हे।

अगर नज़र अंदाज़ कर भी जाये कोई,
तो भी उनके जाने से तकलीफ़ होती है,
तो सोचो अगर प्यार से देख लेती हमे वो,
तो इग्नोर करने की कोई गुंजाइश नहीं है।

हद से ज्यादा जो आपकी हर वक्त,
फ़िकर करता हे,
उन्हें कभी इग्नोर मत करना।

सातवें आसमान पर है उसका गुरुर,
करेगा तुझको वो Ignore,
पर गुरुर टूटे जब उसका तो, तुम मत,
उसे Ignore करना।

उसे bore करने करने लगी हे,
जब से मेरी चाहत मेरा उतावलापन,
तब से मेरी चाहत मुझे,
चाहकर भी Ignore करने लगी हे।

किसपे विश्वास करूँ मैं,
अब अपने ही अपने नहीं रहे,
और वो जो बात ज़िन्दगी की करते थे,
वो अब सपनो में ही नहीं रहे।

एक गुलाब के फूल के पास जब हम गए,
तब उसने स्माइल दे दी हमें,
और एक तुम हो जिसे हम प्यार करते है,
हमें नज़र अंदाज़ कर गए।

जा रहा हूँ जिंदिगी,
आऊंगा फिर लौटकर,
दगा न करना फिर कभी,
ये सपने होंगे पूरे फिर कभी,
उदास ना होना मेरी मंजिल,
तेरा राही मिलेगा हर अर्स पर,
कुछ खाली वक्त की मार थी शायद,
और लोगो ने खबीज समझ लिया।

वो आज भी करते है नज़र अंदाज़,
तो बुरा क्यों मानु ?
टूट कर चाहने वालों को,
रुलाना रिवाज है इस दुनिया का।

जब आप कोई अच्छा काम करें,
और लोग उसे नजर अंदाज करें तो,
कभी दुखी मत होना क्योंकि,
जब सूरज निकलता है तो,
बहुत से लोग सो रहे होतें हैं।

दिल तोड़ कर हमारा तुमको राहत भी न मिलेगी,
मेरे जैसी तुमको चाहत भी न मिलेगी,
यूँ इतनी बेरुख़ी न दिखलाइये हम पे,
हम अगर रूठे तो हमारी आहट भी न मिलेगी।

तेरे दीवाने तो बचपन से थे हम,
लेकिन कभी मौका नहीं मिला हमे,
आपसे बात करने का हमे,
जब बात की हमने आप से तो इग्नोर कर गयी तुम,
मेरे बचपन के प्यार को तोड़ गयी तुम।

उम्मीद करते है की, आपको यह हमारा इग्नोर शायरी आपको जरूर पसंद आया होगा। आप हमारा यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते है, और हमें कमेंट में बता सकते है आपको हमारा यह लेख कैसा लगा।

Leave a Comment