WWW (डब्लू डब्लू डब्लू) क्या है कैसे काम करता है (World Wide Web In Hindi)


WWW Kya Hai In Hindi: इंटरनेट पर आप जितनी भी वेबसाइट देखते हैं, सबमें एक चीज Common होती है वह है WWW. आप जितनी भी वेबसाइट इंटरनेट पर देखते होंगे सभी में WWW का इस्तेमाल होता है. सभी वेबसाइट में WWW को देखकर कभी न कभी आपके मन में भी आता होगा कि आखिर ये WWW क्या है हिंदी में.

हर एक इंटरनेट यूजर को WWW के बारे में पता होना जरुरी है क्योंकि इंटरनेट आज हमारे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है.

अगर आपको WWW के बारे में जानकारी नहीं है तो आप हमारा यह लेख पूरा अंत तक जरुर पढ़ें. इस लेख में हमने आपको बताया है WWW क्या होता है, WWW का आविष्कार किसने किया, WWW क्या काम करता है, WWW कैसे काम करता है, WWW के फायदे और नुकसान क्या हैं.

तो चलिए आपका अधिक समय न लेते हुए शुरू करते हैं आज के इस लेख को और जानते हैं WWW हिंदी में विस्तार से.

डब्लू डब्लू डब्लू क्या है (What is WWW in Hindi)

WWW जिसका पूरा नाम World Wide Web होता है जिसे कि वेब या W3 भी कहते हैं. WWW एक सूचनाओं का स्थान होता है जहाँ पर इंटरनेट पर मौजूद सभी वेबसाइट का कंटेंट जैसे इमेज, विडियो, ऑडियो, टेक्स्ट आदि का लिंक स्टोर रहता है. WWW में मौजूद इनफार्मेशन को यूजर एक URL (Uniform Resource Locators) के जरिये एक्सेस कर पाते हैं.

अगर आसान भाषा में समझें तो इंटरनेट को काम करने के लिए दो चीजों का महत्वपूर्ण रोल होता है एक Client जो कि इंटरनेट को एक्सेस करता है और दूसरा Server जो को इंटरनेट पर सर्विस प्रदान करवाता है.

जिस प्रकार आप हमारा यह लेख पढ़ रहे हैं तो हमारे सर्वर से सीधे आपके डिवाइस तक कंटेंट पहुँच रहा है. इसी प्रकार जितनी भी वेबसाइट मौजूद हैं सबका अपना अलग – अलग सर्वर रहता है. सर्वर के काम करने के लिए जिस सिस्टम की जरुरत होती है उसे  WWW कहते हैं.

सभी वेबसाइट की जितनी भी इनफार्मेशन रहती है वह WWW में स्टोर रहती है. आप इंटरनेट पर जितने भी लिंक को क्लिक करते हैं उसका एक URL होता है. Client URL के द्वारा किसी भी Specific वेबसाइट देख सकता है.

WWW के लिए 3 Technique का इस्तेमाल होता है. URL जिसके द्वारा किसी भी वेबसाइट को इंटरनेट में खोजा जा सकता है. दूसरा HTML जिसके द्वारा वेब डॉक्यूमेंट को बनाया जाता है. और तीसरा HTTP (Hypertext Transfer Protocol) यह इंटरनेट को चलाने के लिए एक प्रोटोकॉल (नियम) होता है.

WWW का पूरा नाम क्या है (WWW Full Form in Hindi)

WWW का फुल फॉर्म World Wide Web (वर्ल्ड वाइड वेब) होता है. इसे सिर्फ वेब या W3 के नाम से भी जाना जाता है.

WWW का इतिहास (History of WWW in Hindi)

1989 में Tim Berners-lee ने world wide web का आविष्कार किया. उस समय वे CERN नामक एक संस्था में सॉफ्टवेर इंजिनियर थे. Tim Berners-lee को एक प्रोजेक्ट पर काम करते समय एहसास हुआ कि डेटा का अलग – अलग कंप्यूटर और प्रोग्राम में होने के कारण मैनेज करना बहुत मुश्किल है. और इनफार्मेशन का आदान – प्रदान करना भी बहुत मुश्किल है.

इसी समस्या के समाधान के लिए उन्होंने hypertext पर काम करना शुरू किया. दरसल hypertext एक ऐसा तरीका होता है जिसमें Hyperlink के द्वारा अलग – अलग वेबपेज को Connect किया जा सकता है.

Tim चाहते थे कि इस तकनीकी का उपयोग करके दुनिया भर के कंप्यूटर के बीच इनफार्मेशन को शेयर किया सके. शुरुवात में उनके Proposal को ठुकरा दिया गया, लेकिन उनके बॉस को यह टेक्नोलॉजी काफी रोचक लगी और उन्होंने Tim को इस पर काम करने का सुझाव दिया.

1990 में Tim Berners-lee ने HTML, HTTP और URL का निर्माण कर लिया, जो कि आज भी Web की बुनियाद है. 1991 में WWW दुनिया के अधिकतर हिस्सों में पहुँच गया था.

इसके अलावा दुनिया का पहला वेब ब्राउज़र भी Tim Berners-lee ने ही बनाया जिसका नाम भी world wide web था, हालांकि बाद में वास्तविक world wide web में अंतर करने के लिए इसका नाम नेक्सस कर दिया गया.

WWW काम कैसे करता है

अभी तक आप समझ गए होंगे कि WWW क्या है. WWW एक सूचनाओं का स्थान हैं जिसमें इंटरनेट पर मौजूद सभी वेबसाइट की इनफार्मेशन स्टोर रहती है और यूजर को वेबसाइट एक्सेस करने के लिए URL की जरुरत होती है.

URL को सर्च करने के लिए एक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन की जरुरत होती है जिसे कि वेब ब्राउज़र कहा जाता है. यूजर जब ब्राउज़र में कोई URL सर्च करता है तो ब्राउज़र उसकी request को WWW के पास भेज देता है. URL IP address का एक human readable form होता है.

अब WWW HTTP प्रोटोकॉल के द्वारा वेबसाइट एड्रेस को Domain Name Server में सर्च करता है, जब एड्रेस सर्वर में होस्ट किये गए पेज के साथ match हो जाता है तो WWW पेज को वापस वेब ब्राउज़र के पास भेजता है और वेब ब्राउज़र उस पेज को यूजर के सामने दिखा देते हैं.

तो कुछ इस प्रकार से WWW काम करता है. WWW को काम करने में URL, HTML Document, HTTP और ब्राउज़र का इस्तेमाल किया जाता है.

WWW के फायदे (Advantage of WWW in Hindi)

World wide Web के अनेक सारे फायदे हैं जिनमें से कुछ प्रमुख फायदों के बारे में हमने आपको लेख में बताया है.

  • WWW के द्वारा आप मुफ्त में कई सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.
  • WWW यूजर को बड़ी मात्रा में डेटा आदान – प्रदान करने की सुविधा देता है.
  • दुनिया भर की जानकारी को यूजर तक पहुँचाने का काम भी www करता है.
  • World wide web को किसी भी डिवाइस के द्वारा इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि मोबाइल, डेस्कटॉप, टेबलेट, लैपटॉप आदि.
  • WWW एक ग्लोबल मीडिया बन गया है, जिसके द्वारा हम दुनिया के किसी भी हिस्से की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

WWW के नुकसान (Disadvantage of WWW in Hindi)

World wide Web के नुकसान निम्न प्रकार से हैं –

  • World wide Web के काम करने के लिए इंटरनेट की जरुरत होती है. अगर आपके डिवाइस में इंटरनेट कनेक्शन नहीं है तो आप WWW का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं.
  • World wide Web में हैकिंग का खतरा बना रहता है, क्योंकि इंटरनेट के द्वारा अनेक सारे डिवाइस हैक किये जाते हैं.
  • World wide Web में अनेक सारी खबरें झूठी होती हैं. जिससे यूजर तक गलत जानकारी पहुँचती है.

इंटरनेट और WWW में अंतर

कई लोग WWW और इंटरनेट को एक ही समझते हैं, लेकिन WWW इंटरनेट से बहुत अलग है. इंटरनेट एक बहुत बड़ा नेटवर्क है जो दुनियाभर के कंप्यूटर और नेटवर्क डिवाइस को आपस में जोड़ता है. जबकि WWW एक इनफार्मेशन हब है जो इंटरनेट के जरिये सूचनाओं को यूजर तक पहुंचाता है.

WWW और इंटरनेट के बीच कुछ प्रमुख अंतर निम्नलिखित हैं.

इंटरनेट (Internet) डब्लू डब्लू डब्लू (World Wide Web)
इंटरनेट की शुरुवात 1960 में हुई थी. WWW का आविष्कार 1989 में Tim Berners-leeके द्वारा किया गया.
इंटरनेट हार्डवेयर से बनाया गया है. WWW एक सॉफ्टवेयर होता है.
बिना WWW के भी इंटरनेट चल सकता है.  इंटरनेट के बिना WWW नहीं चल सकता है.
इंटरनेट में कंप्यूटर को IP address के द्वारा खोजा जाता है. WWW में इनफार्मेशन को URL से खोजा जा सकता है.
इंटरनेट में कंप्यूटर, ब्रिज, राऊटर, सॅटॅलाइट जैसे हार्डवेयर उपकरणों का इस्तेमाल किया जाता है. WWW में प्रोग्राम, Hypertext, Protocol, Webpage आदि का इस्तेमाल किया जाता है.
इंटरनेट IP Address का इस्तेमाल करता है. WWW Http का इस्तेमाल करता है.
(Difference between Internet and WWW in Hindi)

WWW से सम्बंधित सामान्य प्रश्न  

WWW का फुल फॉर्म क्या है?

WWW का पूरा नाम World Wide Web है.

WWW का आविष्कार किसने किया?

WWW का आविष्कार Tim Berners-lee ने 1989 में किया.

WWW क्या काम करता है?

WWW सूचनाओं का एक संग्रह है जो इंटरनेट के द्वारा सूचनाओं को यूजर तक पहुंचाता है.

दुनिया का पहला वेब ब्राउज़र कौन सा था?

दुनिया का पहला वेब ब्राउज़र world wide web था जिसे Tim Berners-lee ने 1991 में बनाया था.

इन्हें भी पढ़े

आपने सीखा: WWW क्या है हिंदी में

अगर आपने इस लेख को पूरा अंत तक पढ़ा है तो आप जरुर समझ गए होंगे कि WWW Kya Hai In Hindi और इंटरनेट के लिए यह कितना महत्वपूर्ण है. हालांकि इंटरनेट का आविष्कार WWW से पहले हो गया था, लेकिन इंटरनेट को इतना advance बनाने के लिए WWW की एक महत्वपूर्ण भूमिका है.

तो दोस्तों इस लेख में इतना ही, उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, अगर लेख में कोई जानकारी रह गयी है तो आप कमेंट बॉक्स में हमें बता सकते हैं. और अंत में आपसे निवेदन करते हैं कि इस लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें.

Leave a Comment